क्यों गिलोय है आयुर्वेद में सबसे उच्च, जाने गिलोय के फायदे और सेवन की मात्रा

आपने पहले ही गिलोय के बारे में काफी सुना होगा और इस्तेमाल भी किया होगा आयुर्वेद में इसका बहुत महत्त्व है, प्राचीन काल से ही इसका इस्तेमाल औषद्यि के रूप में किया जा रहा है। यह मनुष्य को विभिन रोगो से लड़ने में शक्ति प्रदान करती है, इम्युनिटी बढ़ाने के लिए सभी जड़ी बूटियों में से गिलोय को सबसे कारगर साबित हुआ है, गिलोय के किन फायदों की वजह से इसे आयुर्वेद में सबसे उच्च स्थान में रखा है आइये जानते है।

गिलोय के फायदे

  • जो लोग डायबिटीज -2 की समस्या से जूझ रहे है उनके लिए गिलोय काफी लाभदाययक सिद्ध होता है, गिलोय ब्लड शुगर लेवल कण्ट्रोल करने में मदद करता है इसलिय डायबिटीज के मरीज को गिलोय का सेवन करना चाहिए।
  • कुछ लोगो को जल्दी सर्दी – झुकाम होता होता है क्योकि उनका इम्यून सिस्टम काफी कमजोर होता है। गिलोय खून को साफ़ करता है । यह शरीर के अंदर जो फ्री रैडिकल्स होते है उन्हे बाहर निकालता है और हमारे इम्यून सिस्टम को मजबूत बनता है ।
  • अर्थराइटिस के दर्द को कम करने के लिए गिलोय का उपयोग किया जाता है, इस से जोड़ो के दर्द में काफी आराम मिलता है।
  • गिलोय का सेवन पीलिया बीमारी को ठीक करने में काम आता है, गिलोय के 10 -20 पत्तो को अच्छे से पीस कर पेस्ट बना ले। अब इस पेस्ट को दही या छाछ में डाल कर इसका सेवन करे।
  • बदलते खान पान की आदतों के कारण आज कल ज्यादातर लोगो को पाचन संबधी समस्याओ का सामना करना पड़ता है अगर गिलोय का सेवन नियमित किया जाए तो पेट की समस्याओ में काफी राहत मिलती है।
  • अगर आपके चेहरे पर भी समय से पहले झुरिया आ रही है तो गिलोय का सेवन करना शुरू कर दे क्योकि इसमें एंटी ऐजिंग गुण होते है। गिलोय का इस्तेमाल चेहरे पर हो रहे मुहासे और पिम्पल्स को करने में भी काफी मददगार होता है।
  • अगर खासी काफी समय से हो रही है तो गिलोय से बना हुआ काढ़ा पीजिये, गिलोय में एंटी इंफ्लामेटरी गुण होते है जो हमारे स्वांस से संबधी समस्याओ को दूर करता है। अगर खासी में कोई आराम नहीं मिल रहा हो तो डॉक्टर से परामर्श कर ले
  • ज्यादातर महिलाओं में खून की कमी पाइ जाती है जिसे एनीमिया कहा जाता है। गिलोय हमारे शरीर में रक्त कोशिकाओं के निर्माण में मदद करता है इसलिय एनीमिया में इसका सेवन फायदेमद साबित होता है।

गिलोय का सेवन

गिलोय का सेवन सिमित मात्रा में करना चाहिए, इसके लिए  20 ml गिलोय का रस से ज्यादा दिन में सेवन न करे या फिर 20 gram गिलोय का पाउडर भी इस्तेमाल कर सकते है ।   सबसे आसान तरीका है की आप रात में गिलोय की बेल को पानी में भिगो के रखे और सुबह पानी में अच्छे से उबाल ले और पानी को छान के पिले ।

अश्वगंधा के फायदे जानने के लिए यह पढ़े: अश्वगंधा के फायदे स्वास्थ्या से सौंदर्य तक

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *